Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

गुजरात चुनाव पर योगेंद्र यादव का ओपिनियन पोल, 95 से 113 सीट लाकर कांग्रेस बनाएगी सरकार


गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजों को लेकर मशहूर चुनाव विश्लेषक और स्वराज इंडिया पार्टी के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने दूसरे चरण की वोटिंग से एक दिन पहले ट्वीट करके अपना पर्सनल ऑपिनियन पोल यानी चुनावी सर्वेक्षण पेश किया है जिसमें कांग्रेस को 95 से 113 सीट आने का अनुमान जताया गया है. यादव ने कहा है कि ये भी हो सकता है कि बीजेपी की गुजरात में इससे भी बड़ी हार हो.

योगेंद्र यादव के आंकलन के मुताबिक 2017 के चुनाव नतीजे 2012 के उलट हो सकते हैं और कांग्रेस 113 सीटें तक ला सकती है और बीजेपी 65 सीटों पर सिमट सकती है. 182 सदस्यों वाली गुजरात विधानसभा में 2012 में 115 सीटों के साथ जीतकर बीजेपी की तरफ से नरेंद्र मोदी ने सरकार बनाई थी जबकि कांग्रेस को 61 सीटें मिली थीं. 2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद गुजरात में पहले आऩंदीबेन पटेल और फिर विजय रुपाणी मुख्यमंत्री बने.

योगेंद्र यादव ने अपने आंकलन को सीएसडीएस-एबीपी चैनल के ओपिनियन पोल के आधार पर रखा है. योगेंद्र यादव के मुताबिक गुजरात में नतीजों की दो सूरत बनती हैं जिसमें पहला तो ये है कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों को 43-43 परसेंट वोट मिलें. इस हालात में योगेंद्र यादव कांग्रेस को 95 और बीजेपी को 83 सीटें दे रहे हैं.

दूसरी सूरत ये है कि सीएसडीएस वाले चुनाव सर्वेक्षण के बाद अगर 2 परसेंट वोट भी बीजेपी के खिलाफ गए तो कांग्रेस को 45 और बीजेपी को 41 परसेंट वोट मिलेंगे. ऐसा होने पर योगेंद्र यादव के मुताबिक बीजेपी 65 सीटों पर सिमट सकती है जबकि कांग्रेस 113 तक जा सकती है. अगर ऐसा होता है तो ये 2012 के नतीजों का मोटा-मोटी उलट होगा जब बीजेपी को 115 और कांग्रेस को 61 सीटें मिली थीं.

योगेंद्र यादव ने अपने अनुमान में गुजरात की 182 सीटों को शहरी, अर्ध शहरी और ग्रामीण सीटों में बांटकर विश्लेषण किया है. गुजरात में 98 ग्रामीण, 45 अर्ध शहरी यानी सेमी अर्बन और 39 शहरी यानी अर्बन सीटें हैं. 2012 में बीजेपी ने 44 ग्रामीण, 36 अर्ध शहरी और 35 शहरी सीटें जीती थीं. कांग्रेस उस बार 49 ग्रामीण, 8 सेमी अर्बन और 4 अर्बन सीटें जीत पाई थी. 2012 के चुनाव में भी ग्रामीण सीटों पर कांग्रेस का दबदबा था. योगेंद्र यादव का अनुमान है कि इस बार बीजेपी ग्रामीण सीटों से साफ तक हो सकती है.

योगेंद्र यादव के आंकलन में जो पहली सूरत है जिसमें कांग्रेस और बीजेपी दोनों को 43-43 परसेंट वोट मिलें उस सूरत में कांग्रेस को 66 ग्रामीण, 19 अर्ध शहरी और 10 शहरी कुल 95 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है. बीजेपी को इस सूरत में 28 ग्रामीण, 26 अर्ध शहरी और 29 शहरी कुल 83 सीटें मिलने का अनुमान है.

दूसरी सूरत जो योगेंद्र यादव ने बताई है कि 2 परसेंट ज्यादा वोट स्विंग बीजेपी के खिलाफ हो जाए और कांग्रेस को 45 परसेंट और बीजेपी को 41 परसेंट वोट मिले तो उस हालत में कांग्रेस को 74 ग्रामीण, 27 अर्ध शहरी और 12 शहरी कुल 113 सीटें मिल सकती हैं. ऐसी सूरत में योगेंद्र यादव बीजेपी को 20 ग्रामीण, 18 अर्ध शहरी और 27 शहरी सीटें मिलती दिख रहे हैं.

योगेंद्र यादव ने अपने अनुमान में ये भी कहा है कि 39 शहरी सीटों में बीजेपी मजबूत है और उसे वहां बहुत ज्यादा नुकसान नहीं होगा. मतलब 2012 में बीजेपी ने 35 जो सीटें जीती थीं उसमें ज्यादा से ज्यादा 8 सीटें वो हारकर 28 विधायक वहां से जुटा सकती है. अर्ध शहरी यानी सेमी अर्बन 45 सीटों पर 2012 में बीजेपी ने 36 सीटें जीती थी. योगेंद्र यादव का अनुमान है कि बीजेपी यहां कड़ी टक्कर में है और वो आधी होकर 18 तक जा सकती है. बीजेपी के लिए सबसे बुरी खबर योगेंद्र यादव के पास ग्रामीण इलाकों की 98 सीटों से है जहां उनके मुताबिक बीजेपी का मोटा-मोटी सफाया हो जाएगा. योगेंद्र यादव बीजेपी को ग्रामीण सीटों में 44 से 20 पर जाता देख रहे हैं.

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।