Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

मैं प्रधानमंत्री क्यों नहीं बनूंगा: राहुल गांधी

पांच महीने पहले कांग्रेस के 60वें अध्यक्ष बने राहुल गांधी ने अगले लोकसभा चुनाव से ठीक एक साल पहले कहा है कि उन्हें प्रधानमंत्री बनने में कोई हर्ज नहीं है। एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा- अगर कांग्रेस 2019 में सबसे बड़ी पार्टी बनी तो प्रधानमंत्री क्यों नहीं बनूंगा। हालांकि, यह इस बात पर भी निर्भर करेगा कि कांग्रेस का प्रदर्शन कैसा रहता है।

 – राहुल गांधी ने बेंगलुरु में समृद्ध भारत फाउंडेशन के प्रोग्राम में आए चुनिंदा लोगों के समूह से कहा, ‘अमित शाह हत्या के आरोपी रहे हैं। मुझे नहीं लगता कि उनके पास ज्यादा विश्वसनीयता है। भारत की जनता यह भूल गई कि भाजपा के अध्यक्ष हत्या के आरोपी हैं। जो पार्टी ईमानदारी, शालीनता की बात करती है, उसका अध्यक्ष हत्या का आरोपी है।’

– ‘हम लगातार प्रधानमंत्री से यह भी पूछ रहे हैं कि उन्होंने एक ऐसे शख्स को सीएम कैंडिडेट के तौर पर क्यों चुना जो जेल में जा चुका है और जो भ्रष्ट है।’

 – बता दें कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद पर देखने की मांग कांग्रेस में 2012 से उठ रही थी। तब केंद्र में यूपीए-2 की सरकार थी और मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे। तब राजस्थान के सीएम अशोक गेहलोत ने कहा था कि देश चाहता है कि राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनें। पार्टी स्वीकार कर चुकी है कि राहुल कभी भी प्रधानमंत्री का पद संभालें, प्रधानमंत्री खुद कह चुके हैं।

-इसके बाद सितंबर 2013 में यानी आम चुनाव से करीब छह महीने पहले मनमोहन सिंह ने भी कहा था कि 2014 के चुनाव के बाद राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद के लिए आदर्श पसंद होंगे। उन्होंने कहा था- मुझे राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस में काम करने में खुशी होगी।

-सोनिया गांधी ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद का दावेदार बनाने की मांग को खारिज कर दिया। जबकि कांग्रेस की वर्किंग कमेटी की बैठक में राहुल को पीएम कैंडिडेट बनाने की मांग उठी थी।

– सितंबर 2017 :अमेरिका के दो हफ्ते के दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी से भी एक प्रोग्राम में पूछा गया था कि क्या वे 2019 के लोकसभा चुनाव में पीएम कैंडिडेट बनेंगे? इस पर राहुल ने कहा- ”हां। मैं ऐसा करने के लिए बिल्कुल तैयार हूं, बशर्ते मेरी पार्टी यह फैसला करे।”

 दिसंबर 2017 :तीन साल बाद राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। पार्टी की कमान पूरी तरह से उनके हाथों में आई।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।