Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

हम विपक्ष में ही रहेंगे, शिवसेना से नहीं मिला कोई प्रस्ताव: शरद पवार

महाराष्ट्र में नई सरकार को लेकर सस्पेंस बरकार है. नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी सुप्रीमो शरद पवार ने एक बार साफ किया कि वह महाराष्ट्र सरकार में हिस्सेदार नहीं बनने जा रहे हैं. शरद पवार ने कहा कि बीजेपी और शिवसेना को सरकार गठन का जनादेश मिला है. सरकार बनाने की जिम्मेदारी इन दोनों पार्टियों की ही है. कांग्रेस और एनसीपी मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी. वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत से हुई मुलाकात को लेकर पूछे गए सवाल पर पवार ने कहा कि राउत से सियासी समीकरण को लेकर कोई बात नहीं हुई.

परोक्ष रूप से शिवसेना के रुख का समर्थन करते हुए शरद पवार ने कहा कि वह राज्य में शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को देखने के लिए उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं. बुधवार को यहां एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार गठन के मुद्दे पर शिवसेना की ओर से कोई प्रस्ताव नहीं आया है. पवार ने दावा किया, “संजय राउत (शिवसेना सांसद) मुझसे मिले, क्योंकि वह नियमित रूप से मुझसे मिलते हैं. शिवसेना की ओर से कोई प्रस्ताव (सरकार के गठन पर) नहीं है.”

उन्होंने स्वीकार किया कि राउत ने 170 विधायकों की एक सूची दिखाई है, जो शिवसेना का समर्थन कर रहे हैं, मगर इसके साथ ही उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि उन्हें (राउत को) आंकड़े कैसे मिले हैं.” एक सवाल के जवाब में पवार ने कहा कि वह भाजपा-शिवसेना के बीच राज्य में सरकार के गठन के प्रयासों में शामिल नहीं हैं.

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।