Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

पद्मावती विवाद पर बोलीं शबाना आज़मी- मोदी सरकार ने चुनावी फायदे के लिए फिल्‍म पर विवाद किया

फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर चल रहे विवाद के बीच अब बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी ने बहुत बड़ा बयान दे दिया है। शबाना आजमी का कहना है कि चुनावी फायदे के लिए सीबीएफसी द्वारा फिल्म को मंजूरी नहीं दी गई है। शबाना आजमी ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट किया “सत्ता में बैठी सरकार के संरक्षण में सबकी दुकान चल रही है, फिल्मजगत को फिल्म पद्मावती के लिए एक साथ खड़ा होना चाहिए”।

अपने अन्य ट्वीट में शबाना ने लिखा “पद्मावती की अर्जी को सीबीएफसी ने अधूरा बताते हुए वापस लौटा दिया! वाकई ऐसा है क्या? या केवल चुनावी फायदे के लिए यह किया जा रहा है”।

बता दें कि शबाना आजमी का यह रिएक्शन सीबीएफसी द्वारा फिल्म पद्मावती को टेक्निकल कारणों से निर्माताओं को वापस भेज देने के बाद आया है। कई लोगों को इसके पीछे गहरी साजिश नजर आ रही है। ट्विटर यूजर्स भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पूछ रहे हैं कि क्या वाकई में फिल्म को टेक्निकल कारणों से मंजूरी नहीं दी गई है या इसके पीछे कोई और वजह है।

इस फिल्म को 1 दिसंबर को रिलीज होना है लेकिन सीबीएफसी द्वारा फिल्म को मंजूरी न मिल पाने के कारण इसकी रिलीज पर संकट गहरा गया है। आपको बता दें कि फिल्म का देशभर में कड़ा विरोध किया जा रहा है।

राजपूत संगठन काफी लंबे समय से फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। करणी सेना ने इस फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और निर्देशक संजय लीला भंसाली का सिर कलम करके लाने वाले को पांच करोड़ रुपए इनाम में देने की घोषणा की है। वहीं राजस्थान के अलावा यूपी और मध्यप्रदेश में भी शुक्रवार को लोगों ने फिल्म का जमकर विरोध करते हुए प्रदर्शन किया। राजपूतों का कहना है कि निर्देशक भंसाली ने फिल्म बनाने के लिए इतिहास से छेड़छाड़ की है लेकिन भंसाली उनके दावे को सिरे से खारिज कर चुके हैं।

भंसाली ने अपने एक बयान में कहा था कि उन्होंने फिल्म के लिए तथ्यों के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की है। जो इसका विरोध कर रहे हैं उन्हें पहले फिल्म को देखना चाहिए।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।