Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

गोंडाः ‘यह और कितने मुसलमानों के कटे सिर देखना चाहते हैं?’ बहन परवीन का छलका दर्द

मनीषा भल्ला

कल रात गोंडा में जिस नियाज़ अहमद   उर्फ पप्पू मिस्त्री की गला रेत कर हत्या कर दी गई थी उस की 24 वर्षीय बहन अफसाना परवीन रो-रो कर बेहाल है। लेकिन फिर भी वह बात कर लेती है लेकिन नियाज़ अहमद उर्फ पप्पू की अम्मी फूलबानो बेटे के ग़म में होश खो बैठी हैं। परवीन कहती है ‘हमारे अब्बा बचपन में ही गुज़र गए थे, भाई को भी ज़ालिमों ने मार डाला।’ वह कहती है कि उनके लिए कोई भाई नहीं बन सकता और चैन तभी आएगा जब सरकार इनके साथ इंसाफ करेगी और हमला करने वाले को सख्त सज़ा देगी।

पप्पू पांच बहन-भाईयों में सबसे बड़े थे। जो अपनी दोनों बहनों को बहुत प्यार करते थे। अफसाना परवीन का कहना है ‘पैसे न होने के बावजूद भी भाईजान ने हम दोनों बहनों को पढ़ाया। कहीं से शादी के लिए कोई रिश्ता आता था तो भाईजान कहते थे कि नहीं ये लोग अभी पढ़ेंगीं। यहां तक कि पप्पू इन्हें हर जगह प्रतियोगिता परीक्षा दिलवाने ले जाते। परवीन बताती है कि हाल ही में वह मुझे लखनऊ RO की परीक्षा दिलवाने ले गए थे।

परवीन के अनुसार ‘भाईजान ने मुझे एमए करवाया और छोटी बहन ग्रेजुएशन कर रही है। उनकी तमन्ना थी कि मैं आईएएस बनूं और मैं उनकी यह इच्छा ज़रूर पूरी करुंगी।’

परवीन के अनुसार उस रात घर में सभी ने मग़रिब का रोज़ा खोला। फिर पप्पू नमाज़ पढ़ने चले गए। घर लौटकर फ्रूट चाट खाया, खाना खाया। परवीन के अनुसार अम्मी ने चाय बनाई थी लेकिन पप्पू ने चाय नहीं पी वह नमाज़ पढ़ने के लिए मस्जिद की ओर निकल गए। रात करीब आठ बजे पप्पू के साथ काम करने वाला एक मज़दूर भागा-भागा घर आया और बोला कि किसी ने पप्पू का गला काट दिया है। परवीन बताती हैं कि उनकी अम्मी मदरसे में खाना बनाती हैं वो घर पर नहीं थी। हम भाई-बहन भागे-भागे उस जगह पहुंचे जहां भाईजान सड़क पर पड़े थे।

फिर इन लोगों ने अपनी फूफी को इत्तला की अस्पताल ले गए जहां पप्पू को मृत घोषित कर दिया गया। परवीन का कहना है कि पप्पू की किसी से कोई रंजिश नहीं थी। उनकी जानकारी अनुसार तीन आदमी रिक्शा पर आए और बोल रहे थे कि ‘टोपी वालों को मारेंगे।’ वह कहती है कि जब से यह योगी आए हैं सब बरबाद हो गया है। सब योगी का चाल है। परवीन पूछती है कि आप लोग पता लगाओ कि कितने मुसलमानों का गला काटने के बाद सरकार कुछ बोलेगी?

इलाके के नेता एडवोकेट कमरूद्दीन बताते हैं कि इस घटना के पीछे उद्देश्य सिर्फ मुसलमानों को उकसाना है। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। मुसलमानों ने शांति व्यवस्था कायम रखी हुई है। उनका आरोप है कि इलाके में शांति भंग करने की पूरी कोशिश है।

गले नहीं उतर रहे पुलिस के बयान
डेमोक्रेसिया संवाददाता ने जब संबंधित पुलिस अधिकारी से बात की तो बहराइच के एडिशनल एसपी आरके सिंह जो कि मामले की छानबीन के लिए एसपी गोंडा के साथ हैं, ने बताया कि हमलावर रविंदर सिंह को पकड़ लिया गया है। वह राजस्थान के हनुमानगढ़ ज़िले का रहने वाला है। आरके सिंह के अनुसार रविंदर ट्रेन में देवरिया जा रहा था और नशे का बहुत आदि था।

कल रात वह गोंडा स्टेशन पर उतर गया। वहां उसने शराब पी और देसी शराब भी पी जिसके बाद उसका वहां कुछ युवाओं से विवाद हो गया। आरके सिंह के अनुसार उन युवाओं ने इसे बोला कि वे इसकी बोटी-बोटी कर देंगे। उसके बाद इसने एक दुकान से चॉपर खरीदा। तभी सामने से पप्पू और अरमान आ रहे थे, इस आदमी ने सोचा कि इन्हीं लोगों ने इसे धमकी दी थी और उसने दोनों पर हमला कर दिया। उसके बाद यह स्टेशन की ओर भागा जहां नाले में गिर गया। लेकिन यह आदमी गोंडा क्यों उतरा, उसे इतनी रात में मुस्लिम इलाके में शराब कहां से मिली, उसे मारने के लिए पप्पू और अरमान ही क्यों मिले इसका पुलिस के पास कोई जवाब नहीं है।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।