Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

तीन साल सरकार केः गुजरात मॉडल के तहत किसानों को मूत्रपान करवाया

इंसानियत शर्मसारः देश के किसानों के हालात-ए-ज़ार और मोदी सरकार की मुजिरिमाना खामोशी इन तस्वीरों की ज़ुबानी

तस्वीरें देखिए सरकार की बेहिसी देखिए और आनंद पांडे की यह फेसबुक पोस्ट…….

मित्रो, सत्तर साल तक कांग्रेस सत्ता में रही लेकिन देशवासी मूत्रपान के लिए तरसते रहे। मलभोग की तो सपने में भी नहीं सोच सकते थे। लेकिन, हमने गुजरात मॉडल के तहत सिर्फ तीन साल में सबको मूत्रपान की सुविधा मुहैया करा दी। मलभोग भी जल्द ही हमारी जिंदगी का हिस्सा हो जायेगा। इससे देशवासियों के स्वास्थ्य में सुधार होगा, विशेषकर उनके जो गोमूत्र और पंचगब्य से दूर रहते आए हैं। हमें मोरारजी भाई देसाई के सपने का भारत बनाना है। आवश्यकता पड़ी तो हम विदेशों से मल-मूत्र का आयात करेंगे।

धरतीपुत्र, ्अन्नदाता जो सत्ता के गलियातों तक आवाज़ पहुंचाने के लिए मरे हुए चूहे खाने पर मजबूर हुआ।

विरोध का एक तरीका यह भीः नरमुंड गले में डाले किसान

क्योंकि दिल्ली ऊंचा सुनती है….

जब निवस्त्र सड़कों पर उतरा किसान

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।