Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

नफरत और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की राजनीति से हमारे समाज को क्षति पहुंच रही है: राहुल

नई दिल्ली: देश में पीट-पीटकर लोगों की हत्या करने की बढ़ रही घटनाओं के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि लिंचिंग की ये घटनाएं नफरत और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की राजनीति का परिणाम हैं.

राहुल ने शनिवार को ट्विटर पर लिखा, ‘नफरत और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की राजनीति से हमारे सामाजिक ताने-बाने को अपूर्णीय क्षति पहुंच रही है.’

उन्होंने दावा किया, ‘राष्ट्र को झकझोर देने वाली लिंचिंग की घटनाएं इस तरह की राजनीति का परिणाम हैं.’

राहुल का निशाना सीधे तौर पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर माना जा रहा है. वहीं, राहुल गांधी का यह बयान ऐसे समय में आया है जब गोमांस रखने के शक में झारखंड में पीट-पीटकर मार दिए गए अलीमुद्दीन अंसारी की हत्या के दोषियों का सम्मान करने पर भाजपा सरकार के केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की आलोचना हो रही है.

भीड़ द्वारा देश भर में पीट-पीट का हत्या करने का सिलसिला जारी

गौरतलब है कि बीते कुछ समय में देश भर से भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या करने की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. कभी गोरक्षा के नाम पर, कभी गोमांस रखने के नाम पर, तो हालिया समय में बच्चा चोरी के आरोप लगाकर भीड़ द्वारा देश के विभिन्न राज्यों में लोगों की पीट-पीटकर हत्याएं की गई हैं.

2015 में अखलाक की मौत से शुरू हुआ यह सिलसिला पहले गोमांस, गोरक्षा और गोरक्षक तक सिमटा हुआ था, अब इसमें बच्चा चोरी की अफवाहों ने भी जगह बना ली है.

तमिलनाडु में प्रवासी मजदूरों पर हमले की एक घटना में भी स्थानीय लोगों ने इस संदेह में दो लोगों को बुरी तरह पीट दिया कि वे एक बच्चे के अपहरण की कोशिश कर रहे थे.

उससे कुछ ही दिन पहले वेल्लूर जिले में हिन्दीभाषी एक व्यक्ति को भी बच्चा चोर होने के शक में ग्रामीणों ने पीट-पीटकर मार डाला था.

वहीं, असम के सोनितपुर में एक गांव की भीड़ ने मानसिक रूप से कमजोर एक महिला को बच्चा चोर समझकर खंभे पर बांधकर प्रताड़ित किया.

ऐसे ही देश के कई राज्यों में बच्चा चोर गैंग के सक्रिय होने की सोशल मीडिया पर अफवाह फैली हुई है.

इससे पहले मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में भी बच्चा चोर गिरोह का सदस्य समझ कर माड़ा थाना क्षेत्र में ग्रामीणों ने बहरूपिये का स्वांग करने वाले एक युवक की बेरहमी से पिटाई की थी. यह युवक पड़ोस के किसी गांव में साड़ी पहनकर नाचने-गाने जा रहा था, जब  रास्ते में लोगों ने बच्चा चोर गिरोह का सदस्य समझ कर बुरी तरह पीट दिया. घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस वहां पहुची और युवक को भीड़ के चंगुल से बचाया.

इसी कड़ी में, उत्तर प्रदेश के हापुड़ ज़िले के पिलखुआ क्षेत्र में बीते 18 जून को ग्रामीणों ने गोहत्या के शक में दो मुस्लिम व्यक्तियों को पीटकर घायल कर दिया था. इनमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी.

गोहत्या के शक में ही मध्यप्रदेश के सतना जिले के अमगार गांव में भी बीते 17 मई को दो मुस्लिम युवकों पर ग्रामीणों ने मवेशी चोरी और गोवंश की हत्या का आरोप लगाकर हमला कर दिया था, जिसमें एक की मौत हो गई थी और दूसरा कोमा में चला गया था.