Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

कांग्रेस नेता ने कहा: ‘किसी से जबरन जय श्री राम बुलवाना हिंदू धर्म की बेइज्जती है’

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने गुरुवार को अपनी किताब द हिंदू वे: एन इंट्रोडक्शन टू हिंदुइज्म के विमोचन पर कहा कि यह शीर्षक मिथ्या है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो किया जा रहा है वह किसी भी तरह से मौलिक मूल सिद्धांतों, आस्था, प्रथाओं, सनातन धर्म के विश्वास का प्रतिनिधि नहीं है बल्कि ये सब चीजें हिंदू के नाम पर ओछे तरीके से की जा रही हैं ताकि हिंदू के नाम पर चल रही विचारधारा की रक्षा की जा सके। जिसमें उस जय श्री राम के नाम का जाप करवाना शामिल है जिसका असल में उससे कोई लेना-देना नहीं हैं और जिसका हम आदर करते हैं।

शशि थरूर ने कहा समस्या यह है कि उन्नत सिद्धांत कम हो गए हैं और गुंडों की एक टीम बन गई है जो कहते हैं कि मेरी टीम हमेशा सही होती है। मैं अपनी टीम को सही कहने के लिए आपके सिर पर मार सकता हूं। यदि यह लोग इस तरह के हिंदू धर्म का प्रचार करना चाहते हैं तो हमें उसका हिस्सा नहीं बनना है। थरूर की किताब को एलेफ बुक कंपनी ने प्रकाशित किया है। नेहरु मेमोरियल म्यूजियम में किताब के विमोचन के समय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह भी वहां मौजूद थे। उन्होंने पैनल डिस्कशन में हिस्सा लिया।

कर्ण सिंह ने हिंदू धर्म को लेकर कहा, ‘किसी से जबरन जय श्री राम बुलवाना हिंदू धर्म की बेइज्जती है।’ उन्होंने तबरेज अंसारी के मामले का जिक्र करते हुए कहा, ‘क्या यह हिंदुत्व है? मैं रघुवंशी हूं। श्री राम एक दयावान भगवान हैं। असली हिंदुत्व गले लगाता है, दूरियों को कम करता है, युद्ध की स्थिति नहीं बनाता।’ थरूर ने भी उस हिंदू धर्म पर आपत्ति जताई जो किसी से जबरन जय श्री राम और भारत माता की जय बुलावाता है। इस मौके पर भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति के सदस्य और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) नेता शेषाद्री चारी भी मौजूद थे।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।