Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

SIO ने कांग्रेस और दूसरे धर्मनिरपेक्ष दलों को स्टूडेंट्स मेनिफेस्टो देकर राष्ट्रीय एजेंडे में शामिल करने की मांग की

नई दिल्ली: भारत के छात्रों और युवाओं की ओर से, स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया (एस आई ओ) सभी राजनीतिक दलों के सामने एक “स्टूडेंट्स मेनिफेस्टो” पेश कर रही है, ताकि वे अपने संबंधित घोषणा पत्र और एजेंडे में छात्रों और युवाओं की मांगों को शामिल कर सकें। इस संबंध में श्री लबीद शाफ़ई (राष्ट्रीय अध्यक्ष, एसआईओ) के नेतृत्व में संगठन के एक राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल ने विभिन्न राजनीतिक दलों के सांसदों के साथ मुलाकात की, जिसमें प्रोफ़ेसर एम वी राजीव गौड़ा (संयोजक, संसदीय घोषणापत्र समिति 2019,‌ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस), ई टी बशीर (सांसद, आईयूएमएल, केरल), बी विनोद कुमार (टीआरएस नेता, लोकसभा), श्री डी राजा (सांसद, सीपीआई) शामिल हैं।

प्रतिनिधिमंडल ने संसद सदस्यों से शिक्षा, युवाओं और मानव अधिकारों से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की। निम्नलिखित मुद्दे चर्चा का केंद्र रहे –

1. आरक्षण पॉलिसी में रंगनाथ मिश्रा आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाना चाहिए।
2. अल्पसंख्यक बाहुल्य जनपदों में एएमयू के अॉफ़ कैंपस सेंटर खुलने चाहिए।
3. अविकसित अल्पसंख्यक केंद्रित ज़िलों के बुनियादी शैक्षिक ढांचे पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।
4. उच्च शिक्षा के संस्थानों में सभी के लिए समान अवसर सुनिश्चित किए जाने चाहिए।
5. आतंकवाद के झूठे आरोप लगाकर गिरफ्तार किए गए युवाओं, जिन्हें बाद में न्यायलय द्वारा निर्दोष ठहराया गया, के पुनर्वास की व्यवस्था की जानी चाहिए।
6. मौलाना आज़ाद नेशनल फ़ेलोशिप और राजीव गांधी नेशनल फ़ेलोशिप को जारी रखकर उनके स्टाइपेंड को बढ़ाया जाना चाहिए।
7. आरटीई को पूरी तरह से लागू करने के लिए संयुक्त संसदीय समिति का गठन किया जाना चाहिए।
8. सरकारी और सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों में चयन प्रक्रिया को पारदर्शी और निष्पक्ष बनाते हुए सभी रिक्तियों को तुरन्त भरा जाना चाहिए।

माननीय सांसदों ने वादा किया कि वे अपने घोषणापत्र को प्रारूपित करते समय इन बिंदुओं को चर्चा में लाएंगे। इसके अलावा कुछ संसद सदस्यों ने उक्त मांगों को अपने घोषणा पत्र में शामिल करने का भी आश्वासन दिया है।

यह अभियान जारी रहेगा। एसआईओ क्षेत्रीय राजनीतिक दलों के मुखियाओं के साथ भेंट करके इन मांगों को उनके सामने रखेगी और आगामी लोकसभा चुनाव में छात्रों और युवाओं की मांगों को देश का राष्ट्रीय एजेंडा बनाने का प्रयास करेगी।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।