Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

शाह को खाना खिलाने के 10 दिन बाद टीएमसी में शामिल हुआ नक्समलबाड़ी का आदिवासी परिवार

पिछले महीने 25 अप्रैल को जिस आदिवासी जोड़े के घर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भोजन किया था आज (3 मई) उन लोगों ने ममता बनर्जी की पार्टी ज्वाइन कर ली है। पिछले सप्ताह पश्चिम बंगाल के दौरे पर गये अमित शाह ने नक्सलबाड़ी इलाके के दक्षिण कटियाजोत गांव में राजू महाली के घर पर जमीन पर बैठकर भोजन किया था, उन्हें चावल, मूंग की दाल, परवल फ्राई, स्क्वेश करी, सलाद और पापड़ परोसे गये थे। अंग्रेजी वेबसाइट एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक पश्चिम बंगाल के पर्यटन मंत्री गौतम देब की मौजूदगी में इन दोनों ने तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता ले ली है। पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष, जिन्होंने अमित शाह के साथ लंच किया था, ने आरोप लगाया है कि इस जोड़े का अपहरण किया गया है और उन्हें टीएमसी ज्वाइन करने के लिए मजबूर किया गया है।

लेकिन टीएमसी नेता और राज्य के पर्यटन मंत्री गौतम देब ने कहा कि उन्होंने अपनी इच्छा के मुताबिक पार्टी ज्वाइन की है, और उन पर कोई दबाव नहीं है। राजू महाली की पत्नी गीता महाली ने भी कहा कि वह ममता बनर्जी को पसंद करती हैं, और उन्हें किसी तरह की धमकी नहीं मिली है और ना ही उन्होंने पैसा दिया गया है। हालांकि जब पिछले मंगलवार (25 अप्रैल) को जब गीता महाली से पूछा गया था कि वे क्या वे ममता बनर्जी के लिए भी वैसा ही खाना तैयार करेंगी जैसा अमित शाह के लिए प्रस्तुत किया था, तो उन्होंने काफी देर तक सोचने के बाद कहा था कि, ‘हां क्यों नहीं यदि वो मेरे घर आती हैं।’

बता दें कि ये परिवार 2 मई से ही अपने घर से गायब था। स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्होंने सोचा कि वे काम करने गये होंगे। राजू घरों में पुताई का काम करता है जबकि गीता खेतों में काम करती है। बाद में पता चला कि ये दोनों लोग एक टीएमसी कार्यकर्ता के घर में रुके थे ताकि बीजेपी के लोग उनसे संपर्क ना कर सके। इनके दोनों बच्चें एक रिश्तेदार के यहां ठहरे हैं। राजू महाली का बेटा 8वीं कक्षा का छात्र है, और बेटी 11 साल की है। बता दें कि पश्चिम बंगाल में अपनी जड़ें जमाने के लिए बीजेपी पूरजोर कोशिश कर रही है, इसी सिलसिले में बीजेपी अध्यक्ष अध्यक्ष पिछले सप्ताह ही पश्चिम बंगाल के तीन दिन के दौरे पर जा चुके हैं। ममता बनर्जी ने भी बीजेपी को चुनौती दी है कि अगर बीजेपी पश्चिम बंगाल में अपनी राजनीतिक जमीन तलाशती है तो टीएमसी भी दिल्ली फतह करने की योजना बनाएगी।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।