Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

जल्द ही राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह राम मंदिर-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं को शीघ्र सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने के मामले में निर्णय लेगा.

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मामले को शीघ्र सूचीबद्ध करने और उस पर सुनवाई शुरू करने का आग्रह किया, जिस पर प्रधान न्यायाधीश जेएस खेहर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा,’हम इस बारे में निर्णय करेंगे.’

भाजपा नेता ने अपनी दलील में कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के ख़िलाफ़ मुख्य अपीलें सुप्रीम कोर्ट में सात वर्षों से लंबित हैं और उन पर शीघ्र सुनवाई की ज़रूरत है.

Supreme Court decides to list the Ram Janmabhoomi-Babri Masjid matter as soon as possible, on a petition by Subramanian Swamy. pic.twitter.com/6aMEyyCLJp

— ANI (@ANI_news) July 21, 2017

अपनी दलील में उन्होंने यह भी कहा कि उस स्थान पर बिना किसी परेशानी के पूजा-अर्चना के उनके अधिकार के पालन के लिए उन्होंने पहले भी अलग से एक याचिका दायर की थी.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2010 में अपने आदेश में उत्तर प्रदेश के अयोध्या के 2.77 एकड़ विवादित क्षेत्र को तीन भागों में बांटने का आदेश दिया था.

तीन न्यायाधीशों वाली पीठ ने 2:1 के बहुमत वाले आदेश में कहा था कि उक्त भूमि को तीन पक्षकारों सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बांट दिया जाए.

कोर्ट की ओर से राम जन्मभूमि मुद्दे पर जल्द सुनवाई की बात कही जाने पर सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर पर खुशी जाहिर की है. उन्होंने लिखा, श्री राम! आज चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को मैंने राम मंदिर केस के मुद्दे पर पत्र दिया, उन्होंने कहा है कि हम इस पर जल्द ही सुनवाई करेंगे.

JAI SRI RAM!Today in CJI SC court I gave CJI a letter from SC allowing to join the Ram Temple case. CJI said: ” Yes now we will list soon”

— Subramanian Swamy (@Swamy39) July 21, 2017

 

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।