Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

भगवा गुंडागर्दी और लिंचिंग के ख़िलाफ सड़कों पर उतरेंगे युवाः नदीम ख़ान

नदीम ख़ान से डेमोक्रेसिया ब्यूरो की बातचीतः

गुस्सा तो बहुत आता है लेकिन अब हैरानी नहीं होती। आज गाय ले जा रहे फलां को तथाकथित गौरक्षकों की भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला, आज फलां को मार डाला, सुनते-सुनते थक गए। यानी भीड़ में किसी को भी खींच कर पीट-पीट कर मार डालना गाजर-मूली काटने जैसे हो गया है।

जिस परिवार का कमाने वाला चला गया उसके तो रो-रो कर बुरे हाल होते हैं। वे डर भी इतना जाते हैं कि न्याय मांगने की ताक़त ही नहीं होती उसके अंदर। वैसे भी देखने में आया है कि गोरक्षकों ने जिसे भी निशाना बनाया है वे ग़रीब और कमज़ोर वर्ग के मुस्लिम-दलित लोग थे। उनके सामने तो रोज़ी-रोटी की समस्या खड़ी हो जाती है। दो जून की रोटी का जुगाड़ मुश्किल से हो पाता है। इसलिए वे तो न्याय मांगने सड़कों पर उतरेंगे नहीं।

भगवा धारण किए गोरक्षकों के हौसले बुलंद होते  चले जा रहे हैं। उन्हें लग रहा है कि कोई बोल तो रहा नहीं है इसलिए हमने इस सिलसिले में एक राष्ट्रीय अभियान चलाने की योजना बनाई है। ताकि भीड़ में किसी को भी पीट-पीट कर मारना आसान न रहे।

किसी को पीट-पीट कर जान से मार देने की जब ऐसी खबरें छपती हैं लगता नहीं कि हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र हिंदुस्तान में रह रहे हैं,लगता है जैसे कि हम लिंचिस्तान में रह रहे हैं।

इस राष्ट्रीय अभियान के तहत तीन स्तर पर काम किया जाएगा। पीड़ित परिवारों को हर प्रकार से आर्थिक, सामाजिक और कानूनी मदद की जाएगी। जागरुकता के लिए पूरे देश में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। पूरे देश में कार्यक्रम करने का मकसद देश में ट्रेंड सैटल करना है। समाज के बीच इसपर जागरुकता फैलाना है। अभी हो यह रहा है कि ऐसा होने पर समाज चुप रहता है। चुप रहना भी क़ातिलों का साथ देने जैसा होता है। हम इसे एक आंदोलन बनाना चाहते हैं। तीसरा हम एक डॉक्यूमेंटेशन बनाकर देंगे ताकि इसपर कानून बन सके। अभी तो इसमें सामान्य धाराएं लगा दी जाती हैं जिसमें आरोपी को बेल मिल जाती है। इस कानून की ड्राफ्टिंग कमेटी अलग रहेगी।

इस अभियान में यूथ काम करेंगे। एक टीम बना दी गई है। टीम में मेरे अलावा शेहला राशिद, कन्हैया, जिग्नेश मेवानी, मोहित पांडे, सनम वज़ीर और तहसीन पूनावाला हैं। लेकिन सभी लोग अलग-अलग क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। सभी का अपना-अपना फील्ड है लेकिन इस मुद्दे को लेकर तमाम लोग एक मंच पर हैं। ड्राफ्टिंग कमेटी में संजय हेगड़े, निवेदिता, मनोझ झा, अनिल चमड़िया, अपूर्वानंद। कुलदीप नय्यर और स्वरा भास्कर हैं।