Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

जामिया में RSS की इफ़्तार पार्टी सुपर फ्लॉप,छात्रों का आक्रामक प्रदर्शन

डेमोक्रेसिया ब्यूरो

जामिया मिलिया इस्लामिया के बाहर कुछ देर पहले छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन, आरएसएस और मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के अध्यक्ष इंद्रेश कुमार के ख़िलाफ जमकर नारेबाज़ी की। ‘इंद्रेश कुमार वापस जाओ…बम धमाकों के आरोपी वापस जाओ…’ के नारे लगते रहे।

 

आज मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की ओर से जामिया में इफ़्तार पार्टी  का आयोजन किया गया था। छात्रों का कहना है कि मुस्लिम और धर्मनिरपेक्ष शैक्षणिक इदारों में आरएसएस घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि इस इफ़्तार में जामिया के वीसी तलत अहमद को भी बतौर मुख्य अतिथि शरीक़ होना था। लेकिन छात्रों और शिक्षकों का गुस्सा देखते हुए वह इसमें शामिल नहीं हुए।

अंदाज़न जामिया के गेट नंबर-7 पर शाम 6 बजे से छात्र इक्ट्ठा होना शुरू हो गए थे। बाकि जगह पुलिस ने बैरिकेट्स लगा रखे थे। काफी छात्र जामिया के अंदर ही रह गए। इस बीच कुछ छात्रों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई। इनमें से चार-पांच लड़कों को पुलिस बालों से पकड़ते हुए थाने ले गई।

गौरतलब है कि इंद्रेश कुमार का नाम मालेगांव और अजमेर बम धमाकों में आता रहा है। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच आरएसएस का ही है, जिसका दावा है कि वह मुसलमानों के बीच काम करता है।

पूरी दिल्ली में मुसलमानों की सबसे बड़ी आबादी ओखला और जामिया के आसपास रहती है। इसलिए इस विश्वविद्यालय में आरएसएस की सहयोगी शाखा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा इफ़्तार के आयोजन के पूरी तरह से राजनीतिक मायने हैं। और यह दिखाने की क़वायद है कि मुसलमानों में उनकी मौजूदगी है।

 

चश्मदीदों के अनुसार इफ़्तार का आयोजन गेट नंबर दो के अंदर वाले ऑडिटोरियम में किया गया था। इफ़्तार में बहुत कम लोग मौजूद थे। विश्विद्यालय प्रशासन से कोई नामी शख्सियत नहीं पहुंची। शिरक़त करने वालों में ज़्यादातर लोग मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के ही थे। चाहे वह भाषण देने वाले हों चाहे इफ़्तार करने वाले।

इसी दौरान, उधर बाहर जामिया छात्रों का प्रदर्शन जारी रहा। जामिया के गेट पर भारी पुलिस दल तैनात था। जामिया को एक प्रकार से छावनी बना दिया गया। कुछ छात्रों पर पुलिसिया डंडा भी बरसा। उधर बाहर छात्र नारे लगा रहे थे इधर अंदर इंद्रेश कुमार बोल रहे थे कि इन्हें शैतान न कहें, अल्लाह इनपर रहमत करे।  हमेशा की तरह इंद्रेश कुमार ने इस्लाम को खूबसूरत बनाने और दीन पर चलने की नसीहत दी।