Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

मायावती पर प्रियंका का पलटवार, जैसे कि मैंने कहा था कि कुछ विपक्ष के नेता BJP के अघोषित प्रवक्ता बन गए हैं

मौजूदा वक्त में यूपी में कांग्रेस पार्टी प्रियंका गांधी की अगुवाई में काफी सक्रिय है। जिसके कारण कांग्रेस पार्टी सत्ता पक्ष समेत अन्य विपक्षी दलों के निशा’ने पर आ गई है। एक तरफ प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी सपा एवं बसपा जहाँ चुप है। तो वहीं दूसरी तरफ प्रियंका गांधी के अगुवाई में कांग्रेस पार्टी लगातार प्रदेश की योगी सरकार को हर एक मुद्दे पर घेर रही है।

चीनी सीमा पर तना’व के बीच बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को बड़ा बयान दिया है। मायावती ने कहा कि चीन के मुद्दे पर हम भाजपा सरकार के साथ खड़े हैं। कांग्रेस के लोग बेहू’दी बातें करते हैं। आपसी विवाद से चीन को फायदा मिलेगा। वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के उस बयान पर भी पलटवार किया, जिसमें उन्होंने बसपा को भाजपा सरकार की प्रवक्ता बताया था। मायावती ने कहा कि बसपा की अलग विचारधारा है। हम किसी के हाथ का खिलौना नहीं हैं। मिलकर सरकार बनाना या चुनाव लड़ना अलग बात है। बसपा का उदय कांग्रेस के चलते हुआ है।

प्रियंका गांधी मायावती पर पलटवार करते हुए कहा कि जैसे कि मैंने कहा था कि कुछ विपक्ष के नेता भाजपा के अघोषित प्रवक्ता बन गए हैं, जो मेरी समझ से परे है। इस समय किसी राजनीतिक दल के साथ खड़े होने का कोई मतलब नहीं है। हर हिंदुस्तानी को हिंदुस्तान के साथ खड़ा होना होगा। हमारी सरजमीं की अखं’डता के साथ खड़ा होना होगा, और जो सरकार देश की सरज़मीं को गँवा डाले, उस सरकार के ख़िलाफ़ लड़ने की हिम्मत बनानी पड़ेगी।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन विवाद को लेकर सर्वदलीय बैठक के बाद कहा था कि न तो किसी ने हमारी सीमा में प्रवेश किया है, न ही किसी भी पोस्ट पर कब्जा किया गया है। मोदी के इस बयान पर कांग्रेस ने सवाल उठाते हुए कहा था कि तो फिर 20 जवान कैसे शहीलद हुए। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से लेकर राहुल गांधी तक पीएम के इस बयान पर आक्र’मक रुख अख्तियार किए हुए हैं। शही’द हुए 20 भारतीय जवानों के सम्मान में शुक्रवार को ‘शही’दों को सलाम दिवस’ मनाया था।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।