Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

प्रधानमंत्री जी आप मणिशंकर अय्यर नहीं हैं

रवीश कुमार 

एबीपी न्यूज़ चैनल के संवाददाता राजन सिंह के सवाल के जवाब में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर का बयान इस तरह से है। ALTNEWS.IN ने भी मणिशंकर के पूरे बयान को छापा है।

“जहांगीर की जगह शाहजहां आए तब कोई इलेक्शन हुआ,जबकि शाहजहां की जगह औरंगज़ेब आए तब कोई इलेक्शन हुआ, नहीं, पहले से पता था कि जो भी बादशाह हैं उन्हीं की औलाद जो हैं वही बनेंगे वहीं बनेंगे, आपस में वो लड़े तो अलग बात है, लेकिन लोकतंत्र में चुनाव होता है और मैं शहज़ाद पूनावाला को आमंत्रित करता हूं कि वे आएं और इस चुनाव में हिस्सा लें। मणिशंकर अय्यर ने दो अलग अलग बातें कही हैं फिर अगर प्रधानमंत्री ने उनके बयान के आलोक में जो बात कही है निहायत ही अमर्यादित है। आपने शहज़ाद पूनावाला का नाम सुना था क्या। ”

मणिशंकर अय्यर ने पहले और अब में तुलना की, बीजेपी ने इस बयान को ग़लत तरीके से पेश किया और प्रधानमंत्री ने इस बयान को लेकर एक और ग़लती की। हालांकि अय्यर बादशाही और लोकतंत्र में फर्क करते हैं फिर भी एक मिनट के लिए मान लेते हैं कि अय्यर ने अपने जवाब के लिए सही संदर्भ नहीं चुने तो क्या प्रधानमंत्री को औरंगज़ेब राज मुबारक कहना चाहिए था? प्रधानमंत्री का काम यह नहीं कि फेंके गए कीचड़ को उठाकर दूसरे पर फेंक दें या कहीं कुछ कबाड़ पड़ा हो तो उसे उठाकर दूसरे पर फेंक दें। अय्यर ने ज़रूर प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी को चाय वाला कह कर शर्मनाक बयान दिया था। लेकिन इस नए बयान के बदले में प्रधानमंत्री ने क्या किया, क्या उनका भी स्तर मणिशंकर अय्यर जैसा है?

परिवारवाद भारतीय लोकतंत्र की बड़ी चुनौती है और गंभीर मुद्दा है। इसे उठाने का श्रेय बीजेपी को ही जाता है लेकिन जब बीजेपी परिवारवाद का मुद्दा उठा रही थी तब उसके भीतर इतने सारे परिवार कैसे पनप गए? क्या परिवारवाद की बहस सिर्फ अध्यक्ष पद को लेकर होगी? अगर यही पैमाना है तो फिर अकाली दल, शिव सेना, लोक जनशक्ति पार्टी, पीडीपी, टीडीपी में भी तो वही परिवारवाद है जो कांग्रेस है। तो क्या वहां भी औरंगज़ेब है? एक तरह से यह लगता तो बड़ा स्मार्ट है कि अय्यर के बयान को कांग्रेस पर दे मारा लेकिन औरंगजेब राज क्या अब से परिवारवाद का नया नाम हो जाएगा?

यह तो बीजेपी और प्रधानमंत्री को ही साफ करना चाहिए वरना इसकी गूंज की लपेट में चंद्राबाबू नायडू के बेटे भी आ जाएंगे जो न सिर्फ महासचिव हैं बल्कि नायडू कैबिनेट में मंत्री भी हैं। अभी प्रधानमंत्री तमिलनाडु गए थे। डीएमके में भी औरंगज़ेब से मिले थे क्या? क्या कैबिनेट की बैठक में रामविलास पासवान को देखते ही उन्हें मुग़ल वंश याद आता है? चिराग़ तो औरंगज़ेब नहीं लगते हैं न। महबूबा मुफ़्ती ने इतने मुश्किलों में गठबंधन को सींचा है, अपने दल के हित से ज़्यादा निश्चित रूप से भारत का बड़ा हित होगा, क्या वहां भी उन्हें मुग़ल वंश नज़र आया, क्या उनकी तुलना औरंगज़ेब से की सकती है?

प्रधानमंत्री को अपने भीतर झांकर देखना चाहिए कि वो अपनी राजनीतिक मजबूरियों या जीत को बनाए रखने के लिए ऐसे कितने राजनीतिक परिवारों को ढो रहे हैं जिनकी तुलना मुग़ल वंश से की जा सकती है। वैसे राजशाही सिर्फ मुग़लों के यहां नहीं थी। हिन्दू राजाओं के यहा भी थी। आप उसी दिल्ली में बैठते हैं जिसे कुछ दिन पहले तक दिल्ली सल्तनत कहा करते थे। बेहतर है मुसलमानों को दाग़दार करने या किसी को मुस्लिम परस्त राजनीतिक प्रतीकों के इस्तमाल से प्रधानमंत्री को ऊपर उठ जाना चाहिए। वो अच्छा करते हैं अजान के वक्त भाषण रोक देते हैं। और अच्छा होगा अगर वे अपने भाषण में ऐसे प्रतीकों के ख़तरनाक इस्तमाल को भी रोक दें।

प्रधानमंत्री का अपना अलग स्तर होना चाहिए। उन्हें परंपरा भंजक के नाम पर हर बार मर्यादा भंजन की छूट मिल जाती है, मिलती रहेगी। मगर जनता ने इन सब के बाद भी उन्हें प्रधानमंत्री बनाया है, क्या प्रधानमंत्री का कर्तव्य नहीं बनता कि वे उस जनता को एक अच्छी राजनीतिक संस्कृति और मर्यादा देकर जाएं? क्या प्रधानमंत्री का भी वही स्तर होगा जो मणिशंकर अय्यर का होगा? इतना ही है तो राहुल गांधी ने गुजरात चुनावों में कई सवाल उठाए हैं, उसी का जवाब दे देते।

हमारी राजनीति में स्तरहीन बयान एक सच्चाई है लेकिन इस पैमाने पर जब प्रधानमंत्री फेल होते हैं तब दुख होता है। जब नित्यानंद राय ने मोदी के विरोधियों का हाथ काटने की बात की तब तो प्रधानमंत्री चुप रह गए। क्या वो मौका नहीं था कि वे बोलें कि ऐसी बात ठीक नहीं हैं, हम लोकतंत्र में हैं और हमारा विरोध जायज़ है।

प्रधानमंत्री को राजनीतिक रूप से असुरक्षित महसूस नहीं करना चाहिए। चुनावी जीत महत्वपूर्ण है और उन्हीं की ज़िम्मेदारी है मगर उसी के साथ मर्यादा कायम करने की ज़िम्मेदारी भी उन्हीं की है। बेशक प्रधानमंत्री के बारे में बहुत लोग अमर्यादित बातें कहते रहें हैं, मगर क्या प्रधानमंत्री को भी अपने विरोधियों के प्रति अमर्यादित बातें कहनी चाहिए? आख़िर यह सिलसिला कौन रोकेगा? आप ही थे न बिहार में डीएनए ख़राब बता रहे थे? क्या आपकी नाक के नीचे तीन साल से प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू के ख़िलाफ़ शर्मनाक अभियान नहीं चला? आपके आई टी सेल के मुखिया ने नेहरू की भतीजी और बहन के साथ की तस्वीर को किस संदर्भ में ट्विट किया था ?

लोकसभा चुनावों के समय प्रधानमंत्री को चाय वाला कह कर मज़ाक उड़ाया गया, उसका उन्होंने उचित तरीके से प्रतिकार किया और जनता ने भी किया। मगर बदले में वे क्या कर रहे थे? क्या वे राहुल गांधी को शाहज़ादा और दिल्ली की सरकार को दिल्ली सल्तनत नहीं कह रहे थे? क्या वे एक चुनी हुई सरकार का मज़ाक उड़ाने के साथ साथ उसकी पहचान का सांप्रदायिकरण नहीं कर रहे थे ? क्या मनमोहन सिंह का अतीत एक ग़रीब परिवार के पुत्र होने का अतीत नहीं है? हमने तो मनमोहन सिंह को अतीत को लेकर बोलते कभी नहीं सुना, मगर वे उस ग़रीबी को हराते हुए कहां तक पहुंचे, प्रधानमंत्री बनने से पहले दुनिया के जाने माने विश्वविद्यालयों तक पहुंचे।

अतीत के संघर्ष महत्वपूर्ण होते हैं मगर इसका इस्तमाल बदला लेने के लिए नहीं होना चाहिए न ही भावुकता पैदा करने के लिए। यह सब प्रेरणादायी चीज़ें हैं और प्रधानमंत्री ने चाय बेची है तो यह निश्चित रूप से हर भारतीय के लिए गौरव की बात है। हालांकि इसे भी लेकर विवाद हो जाता है कि चाय बेची या न बेची। न भी बेची तो क्या इसमें कोई शक है कि प्रधानमंत्री किसी साधारण परिवार से नहीं आते हैं। बिल्कुल आते हैं। राजनीति में वही साधारण परिवार से नहीं आते हैं, ऐसा करिश्मा बहुतों ने किया है। कर्पूरी ठाकुर से लेकर कांशीराम तक। प्रधानमंत्री की कामयाबी उसी सिलसिले में एक और गुलाब जोड़ती है।

मगर हम यह भी तो देखेंगे कि तीन बार मुख्यमंत्री बनने के बाद आगे की यात्रा में धन और तकनीकि के जिस स्तर का इस्तमाल हुआ, उसका आधार क्या था? क्या एक ग़रीब परिवार से आने के बाद प्रधानमंत्री मोदी राजनीतिक में किसी सादगी का प्रतीक करती है या वैभव का? उस वैभव का आधार क्या है, उसके संसाधन के आधार क्या हैं? और क्या यही आधार सभी भारतीय राजनीति दलों की सच्चाई नहीं है?

एक नेता का मूल्यांकन इस बात से किया जाना चाहिए कि वह अपने विरोधियों का सम्मान कैसे करता है। लोकसभा चुनाव के दौरान वे राहुल गांधी को शहज़ादा कहते रहे, अमित शाह राहुल बाबा। मुझे नहीं लगता राहुल गांधी ने कभी प्रधानमंत्री जी या मोदी जी से कम पर उन्हें संबोधित किया होगा। बल्कि राहुल गांधी को कई बार मोदी मुर्दाबाद के नारे पर अपने कार्यकर्ताओं को टोकते सुना है। क्या यह सही नहीं है? जब आपका विरोधी आपका नाम आदर से ले रहा है तो क्या आपका लोकतांत्रिक फर्ज़ नहीं बनता कि आप भी आदर से लें?

परिवारवाद का मुद्दा पारदर्शिता से शुरू होता है। इस पर सभी दलों के संदर्भ में बहस होनी चाहिए। क्या कोई भी दल पारदर्शिता के पैमाने पर आदर्श है? राजनीतिक दलों को जो चंदे मिलते हैं, उसकी पारदर्शिता के लिए प्रधानमंत्री ने क्या किया है? इस मामले में वे भी वही करते हैं जो बाकी करते हैं। परिवारवाद एक समस्या है तो फिर यूपी चुनाव के समय जीतने के लिए अपनी पार्टी के भीतर परिवारों को क्यों गले लगा रहे थे? वसुंधरा राजे परिवारवाद नहीं हैं तो क्या हैं? क्या प्रधानमंत्री ने इस मसले को लेकर अपनी पार्टी के भीतर कोई ईमानदार और साहसिक बहस या प्रयास किया है?

कांग्रेस से उनका सवाल सही है, कांग्रेस का भी बीजेपी से सवाल सही है कि आपके यहां भी तो मनोनयन होता है। जवाब कोई एक दूसरे को नहीं देता है। बीजेपी को पता है कि उनके यहां का आतंरिक लोकतंत्र कैसा है। क्या बीजेपी में चुनाव होता है, क्या कांग्रेस में चुनाव होता है? इस सवाल को सिर्फ राहुल गांधी के लिए रिज़र्व नहीं रखना चाहिए वरना यह सवाल भी अपने आप में परिवारवादी बन जाएगा, इसे सबके लिए उठाना चाहिए। एक अंतिम राय आनी चाहिए न कि औरंगज़ेब राज जैसे बयान।

(रवीश कुमार और क़स्बा के शुक्रिया के साथ)