Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

पीएम मोदी उन लोगों से बात नहीं करते जिनके साथ वो काम करते हैः राहुल गांधी

एजेंसी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक अमरीकी यूनिवर्सिटी में छात्रों के साथ संवाद किया है. दो सप्ताह के लिए अमरीकी दौरे पर गए राहुल गांधी के निशाने पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहे. यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, बर्कले में बोल रहे राहुल गांधी ने कहा कि विभाजन और ध्रुवीकरण की राजनीति भारत के लोगों को अलग-थलग कर रही है और कट्टरपंथी बना रही है.”

जब राहुल गांधी से प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी संबंधी एक सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वो अपनी पार्टी की ओर से 2019 के चुनावों में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि इस पर फ़ैसला कांग्रेस को लेना है.

1949 में भारत का प्रधानमंत्री रहते हुए पंडित जवाहर लाल नेहरू ने भी इस यूनिवर्सिटी में भाषण दिया था. राहुल नेहरू-गांधी परिवार की चौथी पीढ़ी से हैं.

  • अंहिसा का विचार भारत की जातियों, धर्मों और भाषाओं को एक एकजुट करता है. एक विचार जिसे महात्मा गांधी ने एक ख़ूबसूरत लेकिन ताक़तवर राजनीतिक हथियार में विकसित किया.
  • भारत के लोकतंत्र के बारे में चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन मानव इतिहास में कोई ऐसा राष्ट्र नहीं रहा जिसने इतनी बड़ी तादाद में लोगों को गरीबी से बाहर निकाला हो.
  • अभी तक हमारी ताक़त यही रही है कि हमने जो कुछ भी हासिल किया शांतिपूर्वक किया. नफ़रत, गुस्सा और ध्रवीकरण की राजनीति हमारी आर्थिक विकास की गति को बर्बाद कर देगी.
  • लोगों को दलितों होने की वजह से मारा जा रहा है, मुसलमानों को बीफ़ खाने के संदेह में मारा जा रहा है. ये भारत के लिए नया है. इससे भारत को बहुत बड़ा नुकसान हो रहा है. भारत के दसियों लाख लोगों को लग रहा है कि उनका इस देश में कोई भविष्य नहीं है. आज की जुड़ी हुई दुनिया में ये बहुत ख़तरनाक है ये लोगों को अलग-थलग करता है और उन्हें कट्टरपंथी विचारों की चपेट में ले आता है.
  • 2012 में कांग्रेस में एक तरह का दंभ आ गया था और कांग्रेसियों ने आम लोगों से संवाद कम कर दिया था.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उन लोगों से बात नहीं करते हैं जिनके साथ वो काम करते हैं, इनमें सांसद भी शामिल हैं. ऐसा भाजपा के लोगों ने ही मुझे बताया है.
  • एक बड़ी मशीनरी है जो दिन भर मेरे बारे में दुर्भावना फैलाती है और इसे वो व्यक्ति ही चला रहा है जिसके हाथ में हमारा देश है.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक अच्छे वक्ता हैं. वो मुझसे कहीं ज़्यादा अच्छे वक़्ता हैं.