Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

जीबी रोड की ‘घु’टन’ छोड़ 8 से’क्सवर्कर्स की नई शुरुआत, कोरोना सं’कट में बना रही हैं मास्क

कोरोना और लॉकडाउन के चलते देश के सबसे बड़े रे’ड लाइट एरिया में से एक दिल्ली के जीबी रोड में रह रहीं 8 से’क्सवर्कर्स ने एक नई जिंदगी की ओर कदम बढ़ाया है। लॉकडाउन में काम न होने की वजह से इन 8 महिलाओं ने जीबी रोड छोड़ दिया और अब ये सभी महिलाएं एक एनजीओ के साथ मिलकर मास्क बनाने का काम कर रहीं हैं।

इन से’क्सवर्कर्स की जिंदगी में नई सुबह लेकर आए एनजीओ की तरफ से इन महिलाओं को प्रतिदिन 30 से 40 मास्क बनाने को दिए जाते हैं। एनजीओ में हर मास्क पर एक महिला को 5 रुपये से 7 रुपये तक मिलता है। अभी ये सब महिलाएं रोजाना 40 से 50 मास्क तक बना लेती हैं।

यहां काम करने वाली एक से’क्सवर्कर चांदनी (बदला हुआ नाम) ने बताया, “मुझे इस लॉकडाउन में काफी परेशानी हो गई थी। उसके बाद मुझे एनजीओ की तरफ से मदद मिली, अब मैं रोजाना 30 मास्क बना लेती हूं। मुझे एनजीओ की तरफ से घर भी दिया गया है। मुझे अभी अच्छा लग रहा है।”

हार्ट शाला प्रोजेक्ट पर काम कर रहीं कटकथा एनजीओ की प्रज्ञा बसेरिया ने बताया, “हमारी एनजीओ में जीबी रोड से 10 महिलाएं मास्क बनाने आ रही हैं, लेकिन 8 महिलाएं ऐसी हैं, जिन्होंने जीबी रोड छोड़ दिया है और अपनी एक नई जिंदगी की शुरूआत की है।”

प्रज्ञा बसेरिया ने कहा, “हम अगले हफ्ते तक 5 और महिलाओं को अपने साथ शामिल करेंगे और वो सभी जीबी रोड छोड़ कर हमारे साथ आएंगी और मास्क बना कर अपना जीवनयापन करेंगी। हमने हाल ही में वहां सर्वे कराया था, जिसमें पता चला कि करीब 800 महिलाएं अभी भी जीबी रोड में रह रहीं हैं।”

जीबी रोड पर 22 बिल्डिंग हैं। इन सभी बिल्डिंग में कुल 84 कोठे हैं और हर कोठे का एक नम्बर होता है। ये सभी कोठे पहली, दूसरी और तीसरी मंजिल पर बसे हुए हैं। वहीं ग्राउंड फ्लोर पर टेलर, इलेक्ट्रिक शॉप, जनरल स्टोर आदि खुले हुए हैं। हर कोठे में 10 से 15 से’क्सवर्कर्स हैं और कुल करीब 800 से’क्सवर्कर्स यहां हैं।

साभार: नवजीवन 

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।