Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

शहीद उमर फयाज की हत्या के पीछे अजित डोभाल की साजिश की आशंकाः पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट 

जम्मू कश्मीर में लेफ्टिनेंट उमर फयाज की आतंकियों द्वारा बर्बरतापूर्ण हत्या पर पूर्व आईपीएस ऑफिसर संजीव भट्ट ने बड़ा सनसनीखेज बयान दिया है। संजीव भट्ट ने पूरी उमर फयाज की हत्या से जुड़ी पूरी थ्योरी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि क्या हमें सचमुच पता है कि लेफ्टिनेंट फयाज को किसने मारा है? क्या ये डोवाल एंड कंपनी के पेरोल पर काम करने वालों की करतूत नहीं हो सकती है ताकि कश्मीर में तनाव और भी बढ़ सके। 10 मई को लेफ़्टिनेंट उमर फयाज की हत्या के बाद 11 मई को आईपीएस संजीव भट्ट ने ट्वीट किया, ‘ क्या हम सचमुच जानते हैं कि लेफ्टिनेंट फयाज की हत्या किसने की है, क्या ये कश्मीर में तनाव बढ़ाने के लिए डोवाल एंड कंपनी के पेरोल पर काम कर रहे लोगों की करततू नहीं हो सकती है।’ बता दें कि 2 राजपुताना राइफ्लस के ऑफिसर लेफ्टिनेंट उमर फयाज छुट्टी लेकर एक शादी में शरीक होने दक्षिण कश्मीर स्थित अपने घर शोरियां गये थे, वहां से आतंकियों ने उन्हें अगवा कर उनकी बेरहमी से हत्या कर दी थी।

 संजीव भट्ट 1988 बैच के आईपीएस हैं। सरकार ने अनुशासनहीनता के आरोप में उन्हें बर्खास्त कर दिया है। संजीव भट्ट ने 2002 गुजरात दंगों के मामले में तत्कालीन गुजरात सरकार की भूमिका पर सवाल उठाया था। संजीव भट्ट ने यह ट्वीट कर एक विवाद को जन्म दे दिया है। लोगों ने उनके इस ट्वीट पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। तथागत राय नाम के एक ट्वीटर यूजर ने लिखा है, पब्लिसिटी पाने के लिए कितनी घटिया टिप्पणी की जा सकती है, इसका ये एक उदाहरण है,’ पायल नाम की एक यूजर ने लिखा है, ‘जारी रखिए 2019 में आप कांग्रेस को 4 और बीजेपी को 400 सीट दिलाने में मदद कर रहे हैं। विनायक नाम के एक यूजर ने लिखा है कि संजीव याद रखिए देश आपके व्यक्तिगत नफरत से बड़ा है, आप ISI की भाषा बोल रहे हैं और देश के दुश्मनों को बचा रहे हैं। कर्नल वाजपेयी नाम के एक यूजर ने लिखा है कि क्या हम सचमुच में जानते हैं कि आपकी देशभक्ति की हत्या किसने की है, क्या इसके पीछे ISI और पाकिस्तान का तो हाथ नहीं है। बता दें कि अजीत डोवाल इस वक्त देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हैं। और वे पाकिस्तान, कश्मीर और राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों में एक्सपर्ट माने जाते हैं।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।