Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

पवार के घर विपक्षी पार्टीओं का जमावड़ा

साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के लिए मुहिम लगातार तेज होती जा रही है। इस कड़ी में 13 मार्च को कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के निवास पर विपक्षी नेताओं के साथ हुई डिनर डिप्लोमेसी के बाद अब बारी एनसीपी प्रमुख शरद पवार की है।

पवार ने भी डिनर डिप्लोमेसी के तहत आज डिनर का आयोजन किया है, जिसमें कांग्रेस सहित 19 पार्टियों को न्योता भेजा गया है। खास बात यह है कि सोनिया गांधी के कार्यक्रम में नहीं पहुंची ममता बनर्जी पवार के इस मीट में शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंच गई हैं। पवार के यहां होने वाली डिनर पार्टी में टीडीपी, टीआरएस जैसे दलों को भी न्यौता दिया गया है।

सोनिया का डिनर में आना मुश्किल

अस्वस्थ होने के कारण सोनिया का बैठक में आना मुश्किल है, मगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने आने पर हामी भर दी है। सपा, बसपा, टीडीपी, टीआरएस प्रमुखों से लगातार व्यक्तिगत उपस्थिति दर्ज कराने का अनुरोध किया जा रहा है।

डिनर से पहले ममता कर सकती हैं सोनिया से मुलाकात

इस बीच चार दिवसीय दिल्ली दौरे पर पहुंची पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी डिनर पार्टी से पहले सोनिया, पवार और केजरीवाल से वन टू वन बात करेंगी।

ममता लंबे समय से गैरभाजपा मोर्चा की जगह गैरभाजपा-गैरकांग्रेस मोर्चा अर्थात तीसरा मोर्चा की प्रबल समर्थक रही हैं। उन्होंने इस कड़ी में शिवसेना, सपा, टीआरएस, टीडीपी, बीजेडी प्रमुखों से अलग-अलग समय में मुलाकात की है।

ममता लगातार राजद और बसपा नेतृत्व के भी संपर्क में हैं। हालांकि राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी का समर्थन कर उन्होंने जरूरत पड़ने पर राजग विरोधी मोर्चा के गठन से भी परहेज नहीं बरतने का भी संदेश दिया है।

ये हो सकता है आज का कार्यक्रम

मंगलवार को सबसे पहले ममता संसद भवन के सेंट्रल हॉल में विपक्षी पार्टियों के सांसदों से मुलाकात करेंगी। शाम को वह शरद पवार के घर पर आयोजित डिनर में जाएंगी। बताया जा रहा है कि ममता, शरद यादव और अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात करेंगी। इसके साथ ही वह टीडीपी और शिवसेना के नेताओं से भी मुलाकात कर सकती हैं।