Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

हरियाणाः मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का विवादित बयान, अब हम भी ला सकते हैं कश्मीरी बहू

फतेहाबादः हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कश्मीर की लड़कियों को लेकर एक विवादित बयान दिया है. खट्टर ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने से कश्मीर से लड़कियों को शादी के लिए लाया सकता है.

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, फतेहाबाद में महर्षि भागीरथ जयंती समारोह को संबोधित करते हुए खट्टर ने कहा,’हमारे मंत्री ओपी धनखड़ अक्सर कहते हैं कि वह बिहार से बहू लाएंगे. इन दिनों लोग कह रहे हैं कि अब कश्मीर का रास्ता साफ हो गया है. अब हम लोग कश्मीर से बहू लाएंगे.’

शुक्रवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा दिए गए इस बयान से विवाद खड़ा हो गया है. उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 के हटने के बाद अब लड़कियों को शादी के लिए कश्मीर से लाया जा सकता है.

एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘हमारे मंत्री ओपी धनखड़ कहते थे कि वह बिहार से ‘बहू’ लाएंगे. आजकल लोग कह रहे हैं कि कश्मीर का रास्ता साफ हो गया है. अब हम कश्मीर से लड़कियां लाएंगे.’

कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले से आने वाले भाजपा विधायक विक्रम सैनी ने इसी तरह की टिप्पणी की थी और हिन्दू-मुस्लिम नौजवानों की जम्मू-कश्मीर की लड़कियों से शादी कराने को लेकर कहा कि खतौली विधानसभा के कार्यकर्त्ता बहुत उत्सुक हैं. जो कुंवारे हैं, उनकी शादी वहीं करा देंगे, कोई दिक्कत नहीं है.

भाजपा विधायक विक्रम सैनी ने कहा, ‘कश्मीर में महिलाओं पर कितना अत्याचार था. वहां की लड़की अगर उत्तर प्रदेश के लड़के से शादी कर ले तो उसकी नागरिकता खत्म. भारत की नागरिकता अलग और कश्मीर की नागरिकता अलग यानी एक देश, दो विधान कैसे होना चाहिए? जो मुस्लिम कार्यकर्ता हैं, उन्हें भी खुशी मनानी चाहि‍ए. शादी वहां की कश्मीरी गोरी लड़की से करो, हिन्दू-मुसलमान कोई भी हो, यह पूरे देश के लिए खुशी का विषय है.’

आगे उन्होंने कहा, ‘कार्यकर्ताओं के फोन आए कि खतौली में भी प्रोग्राम कर लो. मैंने सीओ साहब को फोन किया तो उन्होंने कहा कि आज रहने दो कल कर लेना. हमें भी इनपुट ले लेने को कहा कि क्या हो सकता है. योगी जी की पुलिस है. यहां कोई चूं नहीं करने वाला, इलाज कर देंगे, टांगे तुड़वा देंगे कोई बोल गया तो.’

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।