Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

बिहार में दर्ज पहली ऑनर किलिंग, एक प्रेम कहानी का दर्दनाक अंत

बिहार में दो नाबालिग बच्चों की प्रेम कहानी का दर्दनाक अंत हुआ है। इस घटना में दो बच्चों को मौत के घाट उतार दिया गया। गांव वाले बताते हैं कि मुकेश कुमार (16) नाम के लड़के की दोस्ती बगल के ही गांव की नूरजहां खातून (17) से थी। नूरजहां स्कूल जाते-आते वक्त कभी-कभार मुकेश कुमार से मिलती।

 

एक दिन गांव के एक शख्स ने इन दोनों को बात करते हुए देख लिया और इसकी सूचना लड़की के परिवार वालों को दे दी। फिर साजिश रची गई दो हत्याओं की। पुलिस के मुताबिक इस हत्या को बिहार का पहला दर्ज ऑनर किलिंग कहा जा सकता है। मुकेश कुमार के पिता रविन्द्र शाह सदमे में हैं, बेटे की हत्या के बाद खौफ का माहौल है। रविन्द्र शाह मुकेश की हिन्दी की कॉपी को लेकर रो पड़ते हैं। चेहरे को हाथों से ढकते हुए रुंधे हुए स्वर से कहते है, ‘वो काफी तेज लड़का था, मैंने अपने बेटे को खो दिया है, मुझे इंसाफ चाहिेए।फिलहाल इस घटना के बाद पश्चिमी चंपारण के बनहौरा गांव में तनाव और एक दूसरे के प्रति शक का माहौल है।

 

मुकेश के घर से 4 किलोमीटर दूर नूरजहां खातून के घर बलुआ महली टोला में भी सन्नाटा पसरा हुआ है। पुलिस का कहना है कि 27 नवंबर की रात को नूरजहां के परिवार ने कथित पर मुकेश को बहाने से अपने घर बुलाया, इसके बाद उसे बेरहमी से पीटा गया, उसे कीटनाशक पीने पर मजबूर किया गया ताकि ये मौत आत्महत्या जैसी दिख सके। इसके बाद हत्यारों ने नूरजहां पर कहर बरपाया। पुलिस के मुताबिक पहले तो नूरजहां का गला घोंट दिया गया, इसके बाद उसे जहर दे दिया गया। पुलिस को अभी भी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार है।

 

नौतन पुलिस के मुताबिक नूरजहां के पिता की मौत हो चुकी है। पुलिस ने 29 नवंबर को लड़की के भाई और उसके दो चाचा को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का कहना है कि नूरजहां के बॉडी को गांव से 3 किलोमीटर दूर एक बंजर जमीन में दफना दिया गया। जबकि मुकेश की बॉडी को चन्द्रवात नदी के नजदीक गन्ने के एक खेत से बरामद किया गया था।

एक छोटे से खाद की दुकान चलाने वाले रविन्द्र शाह कहते हैं कि अगर कुछ ऐसा था तो दोनों समुदाय के बुजुर्ग इस केस को निपटा सकते थे, लेकिन लड़की के परिवार वालों ने जाल बिछाकर दो मासूम बच्चों की जान ले ली। रविन्द्र शाह कहते हैं कि, ‘मेरा बेटा नौतन में एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ता था। पिछले 5-6 महीनों से वह पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे रहा था। हाल ही में मुझे पता चला कि उसे एक मुस्लिम लड़की प्यार हो गया है, उस वक्त मैंने इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया। लेकिन ये मेरी गलती थी।