Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

प्रेस को चुप कराने के लिए मानहानि कानून का उपयोग नहीं किया जा सकता: दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा कि स्टिंग ऑपरेशन ‘समाज का महत्वपूर्ण हिस्सा’ है क्योंकि वे गलत कृत्यों का खुलासा करने में मदद करते हैं और मानहानि कानून को प्रेस तथा मीडिया का गला घोंटने, उन्हें दबाने और चुप कराने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता.

अदालत ने कहा कि यह भुलाया नहीं जा सकता कि मानहानि कानून में संविधान द्वारा दी गयी बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अनुचित प्रतिबंध लगाने की क्षमता है और यह सुनिश्चित करना अदालत का कर्तव्य है कि मानहानि कानून का दुरुपयोग न किया जाए.

दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ ने इंडियन पोटाश लिमिटेड (आईपीएल) द्वारा एक समाचार चैनल पर दायर एक मानहानि मुकदमे को खारिज करते हुए यह टिप्पणी की.

आईपीएल केंद्र सरकार का उपक्रम है. केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण ने समाचार चैनल के मालिक तथा संपादक से 11 करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति मांगी थी.

समाचार चैनल पर 27-28 अप्रैल 2007 को एक कार्यक्रम प्रसारित हुआ था, जिसमें एक स्टिंग ऑपरेशन के जरिये दिखाया गया था कि कंपनी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कथित तौर पर मिलावटी या सिंथेटिक दूध बेच रही है.

अदालत ने कहा कि कंपनी ने यह साबित नहीं किया कि उसकी मानहानि हुई या इससे नतीजे भुगतने पड़े, इसलिए कंपनी नुकसान के रूप में राशि वसूलने का हकदार नहीं है.

अदालत ने कहा, ‘हाल फिलहाल में स्टिंग ऑपरेशन तकनीक के क्षेत्र में हुई बेहतरी का नतीजा है, जिससे जो लक्षित व्यक्ति की जानकारी में आए बगैर वीडियो और ऑडियो रिकॉर्ड की जा सकती है. ऐसे स्टिंग ऑपरेशनों का अपना महत्व है और वे आज समाज का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं.’

फैसले में आगे कहा गया, ‘गलत काम हमेशा अवैध रूप से चोरी-छिपे ही होते हैं और इसमें शामिल जटिलताओं के कारण ही शायद ही ये कभी साबित होते हैं या कि इनका कोई सबूत ही मिलता है. इनसे जुड़ा कोई व्यक्ति मीडिया और पत्रकारों के सामने तो शायद ही इससे जुड़े होने को स्वीकार नहीं करता. असली तस्वीर सामने लाने के लिए जाल बिछाना पड़ता है.’

अदालत ने यह भी जोड़ा कि इसके प्रसारण में भी मीडिया के लोग खुद को दूध के व्यापार से जुड़ा हुआ बताते हुए मिलावट करने वालों की मदद चाहते हैं. अदालत ने यह भी कहा कि दूध एक महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ है, जो समाज के लिए, खासकर बच्चों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और स्वास्थ्य से जुड़े होने के चलते हमेशा से जनहित का मसला रहा है.

अदालत ने कहा कि इस तरह के मामलों को जनता के सामने लाने का एकमात्र तरीका इस तरह के स्टिंग ऑपरेशन हैं, जिनके चलते भले ही गलत करने वाले को सज़ा न मिले लेकिन ऐसे गलत काम थोड़े समय के लिए ही सही रुक जाते हैं.

फैसले में यह भी कहा गया कि प्रेस और मीडिया को हमेशा मानहानि से जुड़े सामान्य कानून से छूट या सुरक्षा नहीं मिलती है, लेकिन यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि मानहानि कानून मीडिया को चुप कराने या इसको दबाने या दमन आदि के लिए नहीं है.

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।