Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

केंद्र ने 4000 सुरक्षाबलों को उत्तर प्रदेश भेजा, 12 जिलों में होगी तैनाती

अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अगले कुछ दिनों में आने की संभावना है। इसके मद्देनजर अलग-अलग धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक समूहों की बैठकों को दौर शुरु हो गया है। सभी ने इस फैसले को लेकर किसी भी विवादित टिप्पण से बचने और सद्भाव का माहौल बनाए रखने की अपील की है।

शिया वक्फ बोर्ड ने इस फैसले को देखते हुए अपने सभी आयोजनों पर रोक लगा दी है। शिया वक्फ बोर्ड ने सभी वक्फ संपत्तियों पर होने वाले आयोजनों पर रोक लगा दी है। उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने वक्फ बोर्ड की इमामबाड़ा मस्जिद, दरगाह, कार्यालय, कब्रिस्तान, मजार जैसी जगहों पर अयोध्या मसले को लेकर किसी तरह का भाषण या धरना-प्रदर्शन नहीं करने का आदेश जारी किया है। इस आदेश की प्रति उत्त प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी भेजी गई है।

उधर, केंद्र सरकार ने इस फैसले के मद्देनजर कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए केंद्रीय शस्त्र पुलिस बल के करीब चार हजार जवानों को उत्तर प्रदेश भेजा है। यह पुलिस बल 18 नवंबर तक राज्य में तैनात रहेगा। बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बीते सोमवार को ही इस संबंध में फैसला लिया है।

जिसमें मंत्रालय ने तुरंत प्रभाव से पैरामिलिट्री फोर्स की पंद्रह कंपनियों को भेजने की मंजूरी दी। मंत्रालय के आदेश के मुताबिक पैरा मिलिट्री फोर्स की 15 कंपनियों के अलावा बीएसएफ, आरएएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी और एसएसबी की तीन-तीन कंपनियां भेजने को भी मंजूरी दी गई है।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।