Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

ईद पर आज़म खान का रामपुर को संदेश: नफरतों के सौदागर मुल्क की तबाही का इंतजाम कर रहे हैं

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी (सपा) के कद्दावर नेता व रामपुर से सांसद मोहम्मद आजम खान इन दिनों लगातार कई कारणो से सुर्खियों में हैं. बीजेपी और सरकार कीं की कोशिश है कि किसी भी तरह घेर कर मिस्टर खान की जमीन तंग की जाए. इन सबके बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद आज़म खान ने रामपुर के जनता के नाम एक जज़्बाती ख़त लिखा है. वह कई दिनों से रामपुर से दूरी बनाएं हुए हैं. बकरीद के मौके पर भी उनके आज यहां पहुंचने की उम्मीद कम है. इसीलिए उन्होंने शहर के लोगों को भावुकता भरा पत्र लिखा है. सासंद आजम खां के खिलाफ एक महीने में जमीन कब्जाने के कई मुकदमे दायर किए जा चुके हैं.

प्रशासन उन्हें भूमाफिया भी घोषित कर चुका है. आजम खुद भी सवा माह से रामपुर नहीं आए हैं. अब ईद से पहले उन्होंने शहर के लोगों और जौहर विश्वविद्यालय के बच्चों को संबोधित करते हुए खत लिखा है. उनका यह खत सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद चर्चा का विषय बना हुआ है.

उन्होंने लिखा, “तुम सब पर और हालात पर मेरी नजर है. मजहब, धर्म और जात इस इदारे (यूनिवर्सिटी) की पहचान नहीं है, इसका मकसद सबको प्यार और सबसे प्यार करना है. इस गांठ को मजबूती से गिरह बंद कर लेना, जिंदगी के बाकी सफर में भी यह काम आएगी. नफरतों के सौदागर इसी के रास्ते मुल्क की तबाही का इंतजाम कर रहे हैं, सबको इससे होशियार रहना होगा.”

अपने संदेश में आजम खां ने कहा, “मेरी बात सुनो, अजीजों आपके दिलो दिमाग में बहुत सारे सवालात होंगे लेकिन मेरा जवाब बस इतना है कि जो लोग समझते हैं सब कुछ मिट जाएगा, वो सही हो सकते हैं लेकिन एक इतिहास लिख गया, एक तारीख कायम हो गई है कि हड्डी-गोश्त से बना हुआ एक इंसान, गली का बाशिंदा हुकूमतों की मुखालफतों के बावजूद एक अजीम उल शान इदारा यूनिवर्सिटी और नौनिहालों के लिए अच्छे हाई क्लासेज स्कूल्स कायम करने में कामयाब हो सका.”

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।