Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

अलीगढ़ स्टेशन पर मुस्लिम परिवार की लिंचिंग की कोशिश, AMU छात्रों के हंगामें के बाद केस दर्ज

अलीगढ़: आजकल पूरे मुल्क़-ए-हिन्दुस्तान में एक ट्रेंड चल गया है कि भीड़ के जरिए किसी का भी लिंच कर दें..ऐसे ही कन्नौज से अलीगढ़ आए एक मुस्लिम परिवार को अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर कुछ भगवाधारियों ने पीटा है। भीड़ के इस हमले में दो महिलाएं भी घायल हो गई। इस घटना के बाद हड़कंप मच गया। घटना की जानकारी के बाद बड़ी संख्या में अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र मौके पर पहुंच गए और हालात बेहद तनाव पूर्ण हो गए।

घायल तौफीक ने बताया, “उन्हें बुरी तरह पीटा गया। इतना ही नहीं भीड़ ने उनकी अम्मी, भाभी और भतीजी को बुरी तरह से लात-घूंसों और डंडों से पीटा। उन्होंने हमें हमारे मज़हबी पहचान पर टिप्पणी की। तौफीक ने आगे बताया कि कोई हमें बचाने नही आया। हम यह मान ही नही सकते यह अचानक हुआ झगड़ा है। हमें पीटने वाले गालियां दे रहे थे। हम यहां इलाज़ कराने आए थे। यह खुला अत्याचार है।”

बताया जा रहा है कि कन्नौज के रहने वाले शहीम अपने परिवार की तीन महिलाओं व तीन पुरुषों के साथ अलीगढ़ आए थे। शहीम का परिवार मऊ-आनंद विहार से जनरल कोच में यात्रा कर रहे थे। जैसे ही ट्रेन रविवार की शाम सवा चार बजे अलीगढ रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 7 पर पहुंची तो सभी लोग कोच से उतरे। आरोप है की मुस्लिम होने की वजह से तथा बुर्का पहनने के कारण 20-25 अज्ञात लोगों ने उनके साथ अचानक मारपीट शुरू कर दी।

पुलिस ने तहरीर के आधार पर आईपीसी की धारा 147, 394, 352 के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग की जांच की बात कह रही है।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।