Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Filter by Categories
home
margin
slider
top three
top-four
travel
Uncategorized
viral
young india
कल्चर
दुनिया
देश
लीक से हटकर
विशेष
वीडियो
सटीक
सियासत
हाशिया
हेल्थ

असम नागरिकता विवाद: सुप्रीम कोर्ट का फैसला वास्तव में इंसाफ की जीत हैः अरशद मदनी  

 

 

असम समेत पूरे देश में आज जशन का माहौल है। असम में विदेशी नागरिकता के मसले पर आज आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले से लाखों असम वासियों ने राहत की सांस ली। इस विवाद ने असम के कुछ लोगों के लिए भारत में वही स्थिति पैदा कर दी थी जो बर्मा में रोहिंग्या की स्थिति हुई थी। इसे हल करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय ने आज दो अहम मामलों में अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाया है।  जिस से 27 लाख से अधिक महिलाओं पर विदेशी नागरिकता की लटकी तलवार हट जाएगी। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए जमीयत उलेमा-ए-हिन्द के मुखिया मौलाना सैय्यद अरशद मदनी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के इन दोनों महत्वपूर्ण फैसलों का स्वागत करते हैं।

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को बधाई देते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने संविधान को सामने रखते हुए कानून का निष्पक्ष और सटीक विवरण दिया है। उन्होंने कहा कि असम में लॉ एंड आर्डर की बुरी सूरते हाल को देखते हुए जो डर था वह अब ख़त्म हो गया है. मौलाना मदनी ने कहा कि अदालत के इस निर्णय का लाभ समाज में रहने वाले हर व्यक्ति के मिलेगा। मौलाना मदनी ने कहा कि उन्हें अपने जीवन में इतनी खुशी कभी नहीं हुई थी, जितनी सर्वोच्च न्यायालय के फैसला से मिली है। उन्हों ने कहा कि जमीयत उलेमा-ए-हिन्द और उसके सेवक “ख़ुद्दाम” समाज की 27 लाख बेसहारा महिलाओं के लिए सहारा बन गए हैं, सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला बताता है कि आग पर पाने डालने वाले लोग आज भी मौजूद हैं। सुप्रीम कोर्ट का फैसला वास्तव में न्याय की जीत है.

मौलाना मदनी ने कहा कि इस फैसले से आम लोगों का न्यायपालिका में विश्वास और गहरा हुआ है. उन्हों ने इसके लिए जमीयत उलेमा-ए- हिन्द के वकीलों को भी बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने इस मामले की मुश्किल और कठिन परिस्थितियों ने कामयाब पैरवी की. मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि अदालत के फैसले से सांप्रदायिक शक्तियों की साजिश नाकाम हो गयी है.

ज्ञात रहे कि न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और जस्टिस रोहिंटन नरीमन की दो सदस्यीय पीठ ने आज असम से संबंधित (सुरक्षित) दो महत्वपूर्ण मुकदमों का फैसला सुनाया. सर्वोच्च न्यायालय ने आज असम हाईकोर्ट के उस फैसले को पलट दिया जिस में अदालत ने शादीशुदा महिलाओं की नागरिकता के लिए पंचायत प्रमाणपत्र को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने अपने दूसरे सबसे महत्वपूर्ण निर्णय में कहा कि एनआरसी का उपयोग केवल घरेलू और विदेशी लोगों को चिन्हित करने के लिए है.

अदालत ने अपने फैसले में कहा कि एनआरसी घरेलु और विदेशी पहचानने के लिए डिज़ाइन किया गया है। ज्ञात रहे कि जमीयत उलामा हिंद भी इन दोनों मामलों में हस्तक्षेप का हिस्सा थी। ज्ञात रहे कि पहला मुकदमा पंचायत सर्टिफिकेट और दूसरा ऑरिजनल इन हैबिटैंट से संबंधित था। सर्वोच्च न्यायालय ने पंचायत प्रमाणपत्र को नागरिकता प्रमाण पत्र ना मानने वाले असम हाई कोर्ट के फैसले को पलट दिया। अदालत ने अपने फैसले में कहा कि पंचायत सर्टिफिकेट में जो चीजें हैं अगर उस पर शक है तो उसे जांच लिया जाये, लेकिन यह वैलिड हिया. गौर तलब है कि असम हाईकोर्ट का यह कहना था कि ग्राम पंचायत का सर्टिफिकेट एनआरसी के लिए स्वीकार्य नहीं है।

फज़ल अय्यूबी एडवोकेट के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय में जमीयत उलेमा-ए-हिन्द, आम्सू और महिला संगठनों ने अपील दायर की गई थी। दाखिल उनकी अपील में कहा गया था, कि पंचायत सर्टिफिकेट के कानूनी पहलूवों पर गौर करने के बाद ही असम सरकार ने इसे स्वीकारा था और केंद्र सरकार की सहमति भी इसे प्राप्त थी. इसे रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया ने लागू किया था। इस सर्टिफिकेट को हाईकोर्ट को नष्ट नहीं करना चाहिए था, क्योंकि वह लागू हो चुका था और 47 लाख महिलाओं ने सरकार पर भरोसा करके इस पंचायत प्रमाणपत्र को प्राप्त किया था. सुप्रीम कोर्ट में जमीयत उलेमा-ए- हिन्द की ओर से बहस में वरिष्ठ वकीलों में कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद, संजय हेगड़े विवेक कुमार शामिल हुए थे.

पीठ ने दुसरे महत्वपूर्ण निर्णय (दो दिन पहले ही सुरक्षित किया था) में कहा कि NRC घरेलू और विदेशी की पहचान के लिए बनाया गया है. इस का मूल निवासी से कोई संबंध नहीं है. इस से यह बहस ख़तम हो गयी है कि मूल निवासी और आम नागरिक बराबर नहीं हैं, बल्कि दोनों एक जैसे हैं। फैसले ने सरे डर खत्म कर दिए हैं। जमीयत उलेमा-ए- हिन्द असम के मुखिया मुश्ताक अन्फर ने भी इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा, कि यह असम