Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

एक लाख रुपये का ट्रक का चालान कटा

नया मोटर व्हीकल एक्ट आने से सभी चिंता में तो हैं लेकिन गलतियां फिर भी कर रहे हैं। कई मामले ऐसे सामने आए कि व्हीकल की कीमत से ज्यादा का चालान हुआ हो। अब एक मामला सामने आया है कि

इस मामले में पुलिस द्वारा काटे गए चालाने की अप्रत्याशित राशि के कारण चर्चित हुए थे। लेकिन इस मामले में चालाने की रकम इतनी ज्यादा थी, कि जिस आदमी को चालाने की राशि जमा करने के लिए भेजा, वह ही पैसे लेकर गायब हो गया।

ये मामला है यूपी के फिरोजपुर जिले का। यहां के एक ट्रक ड्राईवर जकर (झब्बू) हुसैन को हरियाणा के रेवाणी में पुलिस ने दबोच लिया. ट्रक इतना ज्यादा ओवरलोडेड था कि पुलिस ने 1 लाख, 16 हजार रूपए का चालान बना दिया। मामला ट्रक मालिक के पास पहुंचा। ट्रक के मालिक यामीन खान ने जैसे-तैसे इधर उधर से पैसे जुगाड़कर, हुसैन को आरटीओ ऑफिस में जमा करने के लिए भेजा. लेकिन इतनी बड़ी रकम देखकर ड्राइवर का ही मूड बदल गया। वह उन पैसों के लेकर गायब हो गया।

ट्रक मालिक ने ड्राइवर को बार-बार फोन किया। लेकिन ड्राइवर ने फोन ही रिसीव नहीं किया। परेशान ट्रक मालिक ने पुलिस में जाकर मामले की रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस, ड्राइवर की खोज में फिरोजपुर जिले में स्थित उसके घर पहुंची। वहीं पुलिस ने ड्राइवर को दबोच लिया।

पुलिस ने पैसे भी बरामद कर लिए हैं। पुलिस का ये भी कहना है कि चालान पर मालिक ने डांटा, तो ड्राइवर ने इस बात को दिल पर ले लिया. इसलिए उसने पैसे लेकर भाग जाने का प्लान बनाया। हुसैन को पांच महीने पहले ही ट्रक मलिक ने नौकरी पर रखा था।

खैर ये तो था पूरा मामला कि क्या हुआ, क्यों हुआ। लेकिन अब जानते हैं कि इतनी बड़ी रकम का चालान करने के पीछे  क्या कारण था। कुछ ही दिन पहले मोटर व्हीकल एक्ट आया है। पहले ओवरलोडिंग के लिए मात्र 2 हजार रूपए का जुर्माना लगाया जाता था। लेकिन एक्ट आने के बाद जुर्माने की राशि अब 2 हजार से बढ़ाकर 20 हजार रूपए कर दी गई है। इसके अलावा ज्यादा ओवरलोडिंग होने पर प्रति टन पर दो हजार रूपए का जुर्माना अलग से लगाए जाने का प्रावधान भी किया गया है। इसी नए क़ानून के कारण ही इस ट्रक का चालान कुल सवा लाख का बैठा था।

Democracia एक गैर-लाभकारी मीडिया संस्था हैं। जो पत्रकारिता को सरकार-कॉरपोरेट दबाव से आज़ाद रखने के लिए वचनबद्ध है। इसे जनमीडिया बनाने के लिए आर्थिक सहयोग करें।